मनचाहा जीवनसाथी कैसे पाएं - best astrologer in indore madhya pradesh

ज्योतिषीय दृष्टि से मनचाहा जीवनसाथी कैसे पाएं

भारतीय संस्कृति में विवाह एक महत्वपूर्ण संस्था है, और हर व्यक्ति अपने जीवनसाथी को लेकर विशेष अपेक्षा रखता है। मनचाहा जीवनसाथी प्राप्त करना न केवल व्यक्तिगत संतोष का विषय है बल्कि यह जीवन की समग्र गुणवत्ता को भी प्रभावित करता है। ज्योतिष शास्त्र में, विभिन्न ग्रहों और नक्षत्रों की स्थिति का अध्ययन करके यह अनुमान लगाया जा सकता है कि कौन सा व्यक्ति हमारे लिए उपयुक्त जीवनसाथी हो सकता है। ज्योतिषीय उपायों का पालन करके मनचाहा जीवनसाथी प्राप्त किया जा सकता है। आइए, जानते हैं इंदौर के प्रसिद्ध ज्योतिषी साहू जी के अनुसार कुछ प्रमुख ज्योतिषीय उपाय और सिद्धांतों के बारे में।

कुंडली मिलान का महत्व

कुंडली मिलान भारतीय वैदिक ज्योतिष में विवाह के लिए सबसे महत्वपूर्ण चरण है। यह प्रक्रिया वर और वधू की कुंडलियों के आठ पहलुओं (अष्ट कूट) का मिलान करती है, जिससे यह सुनिश्चित किया जा सके कि उनका विवाह सफल और संतोषजनक होगा। भारत के प्रसिद्ध ज्योतिषी साहू जी के अनुसार, कुंडली मिलान में गुण मिलान के अलावा, मंगल दोष, नाड़ी दोष और अन्य दोषों का विश्लेषण भी महत्वपूर्ण है।

सप्तम भाव का विश्लेषण

सप्तम भाव कुंडली में विवाह का भाव होता है। यह भाव जीवनसाथी की विशेषताओं, वैवाहिक जीवन की गुणवत्ता, और जीवनसाथी के साथ संबंधों को दर्शाता है। यदि सप्तम भाव में कोई अशुभ ग्रह स्थित है या इस भाव पर अशुभ ग्रहों की दृष्टि है, तो विवाह में समस्याएं उत्पन्न हो सकती हैं। मध्यप्रदेश के प्रसिद्ध ज्योतिषी मनोज साहू जी के अनुसा, सप्तम भाव की शांति और शुभ ग्रहों की दृष्टि के लिए विशेष पूजा और मंत्र जाप किया जा सकता है।

शुक्र ग्रह का महत्व

शुक्र ग्रह प्रेम,सुंदरता और वैवाहिक सुख का कारक ग्रह माना जाता है। यदि शुक्र ग्रह मजबूत और शुभ स्थिति में हो, तो व्यक्ति को मनचाहा जीवनसाथी प्राप्त करने में सफलता मिलती है। शुक्र की स्थिति का विश्लेषण करके और इसे मजबूत करने के उपाय करके विवाह में सफलता पाई जा सकती है। वैदिक ज्योतिष के अनुसार, शुक्र ग्रह की शांति के लिए शुक्रवार के दिन विशेष पूजा और व्रत किया जा सकता है।

मंगल दोष का निवारण

मंगल दोष या मंगलीक दोष वैवाहिक जीवन में समस्याओं का प्रमुख कारण माना जाता है। यदि किसी व्यक्ति की कुंडली में मंगल दोष हो, तो उसे विवाह से पहले या बाद में विशेष उपाय करने चाहिए। मंगल दोष के निवारण के लिए हनुमान जी की पूजा,मंगल मंत्र का जाप, और मंगलवार के दिन व्रत करना लाभकारी होता है।

नवम भाव और नवमांश कुंडली का विश्लेषण

नवम भाव भाग्य और धर्म का भाव है, जो जीवन में सुख, संतोष और समृद्धि को दर्शाता है। नवम भाव और नवमांश कुंडली का विश्लेषण करके यह जाना जा सकता है कि जीवनसाथी के साथ जीवन कैसा होगा। यदि नवम भाव और नवमांश कुंडली में शुभ ग्रह स्थित हों, तो व्यक्ति को एक सुखी और संतोषजनक वैवाहिक जीवन प्राप्त होता है। हाल ही में हुए गणना के अनुसार,नवम भाव का विश्लेषण करने से विवाह में सफलता के योग प्रबल होते हैं।

ग्रह शांति और उपाय

कई बार ग्रहों की अशुभ स्थिति विवाह में देरी और समस्याओं का कारण बनती है। ऐसे में ग्रह शांति के उपाय किए जा सकते हैं, जैसे कि रत्न धारण करना, मंत्र जाप, यज्ञ और हवन आदि। भारत के प्रसिद्ध ज्योतिषी साहू जी के अनुसार, ग्रहों की शांति और अनुकूलता के लिए नियमित रूप से पूजा-पाठ और अनुष्ठान करना चाहिए।

मनचाहा जीवनसाथी प्राप्त करने के ज्योतिषीय उपाय

रत्न धारण

व्यक्ति की कुंडली में ग्रहों की स्थिति के अनुसार, रत्न धारण करना लाभकारी हो सकता है। शुक्र के लिए हीरा, गुरु के लिए पुखराज,और मंगल के लिए मूंगा धारण करना लाभकारी होता है। रत्न धारण करने से ग्रहों की अशुभता कम होती है और शुभता बढ़तीहै।

मंत्र जाप

विशेष मंत्रों का जाप करके भी मनचाहा जीवनसाथी प्राप्त किया जा सकता है। उदाहरण के लिए, ‘ॐ लक्ष्मी नारायण नमः’ मंत्र का जाप करने से वैवाहिक जीवन में सुख और समृद्धि आती है।

व्रत और उपवास

शुक्रवार के दिन व्रत रखना और देवी लक्ष्मी की पूजा करना भी लाभकारी होता है। इससे वैवाहिक जीवन में खुश हाली और समृद्धि आती है।

विशेष पूजा और हवन

विशेष पूजा और हवन का आयोजन करके भी ग्रहों की अशुभता को कम किया जा सकता है। इसमें नवग्रह शांति हवन,मंगल दोष निवारण हवन और कालसर्प दोष निवारण हवन शामिल हैं।

नियमित पूजा और ध्यान

नियमित रूप से पूजा और ध्यान करने से मन शांत रहता है और सकारात्मक ऊर्जा का संचार होता है। इससे व्यक्ति को सही निर्णय लेने में सहायता मिलती है और मनचाहा जीवनसाथी प्राप्त करने में सफलता मिलती है।

निष्कर्ष

ज्योतिषीय दृष्टि से मनचाहा जीवनसाथी प्राप्त करना संभव है, बशर्ते कि व्यक्ति अपनी कुंडली का सही विश्लेषण कराकर उचित उपाय करे। भारत के प्रसिद्ध ज्योतिषी साहू जी के अनुसार कुंडली मिलान, सप्तम भाव का विश्लेषण, शुक्र ग्रह की स्थिति, मंगल दोष का निवारण, नवम भाव और नवमांश कुंडली का विश्लेषण, और ग्रह शांति के उपाय अपनाकर मनचाहा जीवनसाथी प्राप्त किया जा सकता है। वैदिक ज्योतिष के अनुसार के अनुसार, कई बार छोटी-छोटी ज्योतिषीय क्रिया भी बड़ी समस्याओं का समाधान कर सकती हैं। इसलिए विवाह के इच्छुक व्यक्तियों को चाहिए कि वे किसी अनुभवी और प्रतिष्ठित ज्योतिषी से परामर्श लें और उनकी सलाह अनुसार उपाय करें। इससे न केवल मनचाहा जीवनसाथी प्राप्त होगा बल्कि जीवन में सुख, संतोष और समृद्धि भी आएगी।

ज्योतिषी साहू जी
परामर्श के लिए संपर्क करे : +91 – 8656979221
Scroll to Top