क्यों आप कर्ज के बोझ तले दबे रहते हैं - best astrologer in indore madhya pradesh

क्यों आप कर्ज के बोझ तले दबे रहते हैं

भारतीय ज्योतिष शास्त्र में ग्रहों और नक्षत्रों का व्यक्ति के जीवन पर गहरा प्रभाव होता है। आर्थिक समस्याएं  और कर्ज का बोझ भी इन्हीं ग्रहों की दशा और स्थिति से प्रभावित होते हैं। यदि आप लगातार कर्ज के बोझतले दबे रहते हैं और लाख प्रयासों के बावजूद इससे मुक्त नहीं हो पा रहे हैं, तो ज्योतिषीय दृष्टि से इसके पीछे कई कारण हो सकते हैं। इस लेख में हम जानेंगे कि ज्योतिषीय दृष्टि से कर्ज के बोझ का क्या कारण हो सकता है और इससे मुक्ति पाने के उपाय क्या हैं।

क्यों आप कर्ज के बोझ तले दबे रहते हैं, best astrologer in Indore

शनि का प्रभाव

शनि ग्रह को कर्मफल का दाता माना जाता है। शनि की प्रतिकूल स्थिति या उसकी साढ़ेसाती की दशा व्यक्ति के जीवन में आर्थिक संकट और कर्ज का कारण बन सकती है। शनि की महादशा या अंतरदशा में व्यक्ति को वित्तीय समस्याओं का सामना करना पड़ सकता है, जिससे उसे कर्ज लेने की नौबत आ सकती है। ऐसे में इंदौर के प्रसिद्ध ज्योतिषी साहू जी का मार्गदर्शन आपकी समस्याओं का समाधान कर सकता है।

Mangal , best astrologer sahu ji

मंगल दोष

मंगल ग्रह का व्यक्ति के आर्थिक स्थिति पर बड़ा प्रभाव होता है। यदि किसी व्यक्ति की कुंडली में मंगल ग्रह अशुभ स्थिति में होता है या उसके ऊपर शनि, राहु या केतु की दृष्टि होती है,तो यह व्यक्ति को अनावश्यक खर्चों में उलझा सकता है और कर्ज के जाल में फंसा सकता है।मंगल की प्रतिकूल दशा में व्यक्ति को आवेग में आकर गलत वित्तीय निर्णय लेने की संभावना बढ़ जाती है। ऐसे मामलों में, इंदौर के प्रसिद्ध ज्योतिषी साहू जी से परामर्श लेना लाभकारी हो सकता है।

राहु और केतु का प्रभाव

राहु और केतु को छाया ग्रह कहा जाता है, जो व्यक्ति के जीवन में भ्रम, अव्यवस्था और अनिश्चितता लाते हैं। राहु की महादशा या अंतरदशा में व्यक्ति को अज्ञात कारणों से वित्तीय समस्याओं का सामना करना पड़ सकता है। केतु की दशा में व्यक्ति के खर्चे बेतहाशा बढ़ सकते हैं और उसे कर्ज लेने की आवश्यकता पड़ सकती है। मध्यप्रदेश के प्रसिद्ध ज्योतिषी मनोज साहू जी के अनुसार इन ग्रहों के प्रतिकूल प्रभाव को समझने और समाधान निकालने में माहिर हैं।

क्यों आप कर्ज के बोझ तले दबे रहते हैं, best astrologer in indore

कुंडली दोष

  • कुंडली में विभिन्न प्रकार के दोष होते हैं जो आर्थिक समस्याओं का कारण बन सकते हैं।

  • कालसर्प दोष: जब राहु और केतु के बीच सभी ग्रह स्थित होते हैं, तो इसे कालसर्प दोष कहा जाता है। यह दोष व्यक्ति के जीवन में वित्तीय समस्याएं, आर्थिक तंगी और कर्ज का बोझ ला सकता है।
  • पितृ दोष: पितृ दोष व्यक्ति के जीवन में विभिन्न समस्याएं लाता है, जिनमें आर्थिक समस्याएं भी शामिल हैं। इस दोष के कारण व्यक्ति को आर्थिक अस्थिरता का सामना करना पड़ सकता है। मध्यप्रदेश के प्रसिद्ध ज्योतिषी मनोज साहू जी के अनुसारऐसे कुंडली दोषों का निवारण करने के विशेषज्ञ हैं।

ग्रहों की युति और दृष्टि

  • ग्रहों की युति और उनकी दृष्टि भी व्यक्ति के आर्थिक जीवन पर गहरा प्रभाव डालती है।

  • शनि-मंगल युति: शनि और मंगल की युति या दृष्टि व्यक्ति के वित्तीय मामलों में रुकावट और कर्ज का कारण बन सकती है।
  • राहु-केतु की दृष्टि: राहु और केतु की दृष्टि भी वित्तीय समस्याएं और कर्ज का कारण बन सकती है। यह दृष्टि व्यक्ति के वित्तीय निर्णयों में गलतियों और अनिश्चितता को बढ़ावा देती है।

Effective Vastu Tips For Happiness, best astrologer in Indore

वास्तु दोष

  • वास्तु दोष भी व्यक्ति के आर्थिक जीवन को प्रभावित कर सकते हैं। यदि आपके घर या कार्यालय का वास्तु दोषपूर्ण है, तो यह आपके वित्तीय स्थायित्व और आर्थिक वृद्धि में बाधा उत्पन्न कर सकता है।

  • वास्तु दोष का प्रभाव: वास्तु दोष के कारण नकारात्मक ऊर्जा का प्रवाह होता है, जिससे व्यक्ति के वित्तीय मामलों में समस्याएं आती हैं। इससे कर्ज का बोझ बढ़ सकता है। ऐसे में इंदौर के प्रसिद्ध ज्योतिषी साहू जी
  • से वास्तु दोष निवारण के उपाय जानना सहायक हो सकता है।

पूर्व जन्म के कर्म

ज्योतिष के अनुसार, व्यक्ति के पूर्व जन्म के कर्म भी उसके वर्तमान जीवन को प्रभावित करते हैं। यदि किसी व्यक्ति के पूर्व जन्म के कर्म अच्छे नहीं हैं, तो उसे वर्तमान जीवन में कर्ज और आर्थिक समस्याओं का सामना करना पड़ सकता है।

वर्तमान जीवन के कर्म

वर्तमान जीवन में किए गए कर्म भी व्यक्ति के आर्थिक स्थायित्व पर प्रभाव डालते हैं। गलत वित्तीय निर्णय, अनावश्यक खर्चे और असंतुलित बजट भी कर्ज का कारण बन सकते हैं।

कर्ज से मुक्ति के उपाय

ग्रहों की शांति

  • ग्रहों की शांति के लिए नियमित पूजा-पाठ, मंत्र जाप और रत्न धारण करना लाभकारी हो सकता है। इससे ग्रहों के प्रतिकूल प्रभाव को कम किया जा सकता है और आर्थिक स्थायित्व प्राप्त किया जा सकता है। वैदिकज्योतिष केअनुसार, ये उपाय व्यक्ति के जीवन में सकारात्मक परिवर्तन ला सकते हैं।

वास्तु सुधार

  • घर और कार्यालय के वास्तु दोषको सुधारने के लिए वास्तु शास्त्र के अनुसार परिवर्तन करें। सही दिशा में बैठना,सही रंगों का प्रयोग और वास्तु दोषों को दूर करना महत्वपूर्ण हो सकता है। इंदौर के प्रसिद्ध ज्योतिषी साहू जी वास्तु दोष निवारण के लिए सही दिशा-निर्देश प्रदान कर सकते हैं।

सकारात्मक सोच

  • सकारात्मक सोच और आत्मविश्वास के साथ काम करने से जीवन में सफलता प्राप्त की जा सकती है। योग, ध्यान और प्राणायाम से मानसिक शांति और आत्मविश्वास बढ़ाया जा सकता है। वैदिक ज्योतिष के अनुसार, मानसिक और आत्मिक शांति आर्थिक स्थायित्व के लिए अत्यंतआवश्यक है।

ज्योतिषीय परामर्श

  • इंदौर के प्रसिद्ध ज्योतिषी मनोज साहू जी, जो वेदिक ज्योतिष,अंक ज्योतिष और लाल किताब विशेषज्ञ हैं, से परामर्श लें। वे आपकी कुंडली का विश्लेषण कर सही उपाय बता सकते हैं जिससे आपके आर्थिक समस्याओं और कर्ज से मुक्ति मिल सकती है। भारत के प्रसिद्ध ज्योतिषी साहू जी का मार्गदर्शन आपके जीवन को नई दिशा दे सकता है।

निष्कर्ष

ज्योतिषीय दृष्टि से कर्ज के बोझ के कई कारण हो सकते हैं, जैसे कि ग्रहों की दशा,कुंडलीदोष, वास्तु दोष, पूर्व जन्म के कर्म और वर्तमान जीवन के कर्म। इन समस्याओं का समाधान ज्योतिषीय उपायों और सकारात्मक दृष्टिकोण से किया जा सकता है। इंदौर के प्रसिद्ध ज्योतिषी साहू जी जैसे विशेषज्ञ ज्योतिषियों की सलाह लेकर आप अपने जीवन में आर्थिक स्थायित्व प्राप्त कर सकते हैं और कर्ज के बोझ से मुक्ति पा सकते हैं। वैदिक ज्योतिष के उपायों और सिद्धांतों का पालन करके आप अपने जीवन को नई दिशा और गति दे सकते हैं।

Scroll to Top