व्यावसायिक लाभ बढ़ाने के लिए वास्तु टिप्स - best astrologer in indore madhya pradesh

ज्योतिषी दृष्टि से व्यावसायिक लाभ बढ़ाने के लिए वास्तु टिप्स

व्यवसाय में सफलता प्राप्त करने के लिए मेहनत और रणनीति महत्वपूर्ण होते हैं, लेकिन कई लोग ज्योतिष और वास्तु शास्त्र के सिद्धांतों का भी सहारा लेते हैं। प्रसिद्ध ज्योतिषी मनोज साहू जी का मानना है कि हमारे आसपास के वातावरण का हमारे जीवन और व्यवसाय पर गहरा प्रभाव पड़ता है। इंदौर के प्रसिद्ध ज्योतिषी मनोज साहू जी के अनुसार, कुछ सरल लेकिन प्रभावशाली वास्तु टिप्स अपनाकर आप अपने व्यावसायिक लाभ को बढ़ा सकते हैं।

कार्यालय का सही स्थान और दिशा

व्यवसाय के लिए कार्यालय का स्थान और उसकी दिशा अत्यंत महत्वपूर्ण होते हैं। वास्तु शास्त्र के अनुसार, कार्यालय का मुख्य द्वार उत्तर, उत्तर-पूर्व या पूर्व दिशा में होना चाहिए। यह दिशाएँ सकारात्मक ऊर्जा को आकर्षित करती हैं और व्यवसाय में वृद्धि का कारण बनती हैं। यदि ये दिशा संभव नहीं है, तो दक्षिण दिशा भी एक अच्छा विकल्प हो सकता है।

बैठने की सही व्यवस्था

कार्यालय में बैठने की व्यवस्था भी वास्तु के अनुसार होनी चाहिए। मध्यप्रदेश के प्रसिद्ध ज्योतिषी मनोज साहू जी के अनुसार , व्यवसायी को अपने कार्यालय में इस प्रकार बैठना चाहिए कि उनका मुख उत्तर या पूर्व दिशा की ओर हो। इससे निर्णय लेने की क्षमता में सुधार होता है और मानसिक स्पष्टता बनी रहती है। वहीं, कर्मचारियों का मुख पश्चिम दिशा की ओर होना चाहिए जिससे वे अधिक उत्पादकता के साथ काम कर सकें।

तिजोरी और धन रखने का स्थान

धन और महत्वपूर्ण दस्तावेज रखने के लिए तिजोरी का स्थान भी वास्तु शास्त्र में विशेष महत्व रखता है। तिजोरी को हमेशा दक्षिण-पूर्व दिशा में रखना चाहिए और उसका द्वार उत्तर दिशा की ओर खुलना चाहिए। यह दिशा धन को स्थिरता और सुरक्षा प्रदान करती है।

रंगों का चयन

रंगों का हमारे मूड और मानसिकता पर गहरा प्रभाव पड़ता है। वैदिक ज्योतिष के अनुसार, व्यवसायिक स्थानों के लिए निम्नलिखित रंगों की सिफारिश की जाती है:

  • नीला: शांति और मनोवैज्ञानिक संतुलन के लिए।
  • हरा: ताजगी और वृद्धि के लिए।
  • पीला: सकारात्मकता और खुशी के लिए।
  • सफेद: स्वच्छता और स्पष्टता के लिए।

पौधों का उपयोग

पौधे न केवल पर्यावरण को सुंदर बनाते हैं बल्कि सकारात्मक ऊर्जा भी लाते हैं। वास्तु के अनुसार, बांस के पौधे, तुलसी, स्नेक प्लांट, और मनी प्लांट व्यवसायिक स्थानों के लिए शुभ माने जाते हैं। इन्हें कार्यालय के उत्तर-पूर्व या पूर्व दिशा में रखना चाहिए।

वास्तु दोष निवारण

यदि किसी कारण वश कार्यालय में वास्तु दोष हो, तो इसके निवारण के लिए कुछ उपाय किए जा सकते हैं। उदाहरण के लिए, मुख्य द्वार पर स्वास्तिक का चिन्ह लगाना, वास्तु पिरामिड का उपयोग, या नमक के पानी से सप्ताह में एक बार कार्यालय की सफाई करना शामिल है। ये उपाय नकारात्मक ऊर्जा को दूर कर सकारात्मकता लाने में सहायक होते हैं।

ज्योतिषीय उपाय

इंदौर के प्रसिद्ध ज्योतिषी मनोज साहू जी के अनुसार व्यवसाय में लाभ बढ़ाने के लिए निम्नलिखित उपाय किए जा सकते हैं

  • रत्न धारण: राशि के अनुसार सही रत्न धारण करना। जैसे कि मकर राशि के जातकों के लिए नीलम और मिथुन राशि के जातकों के लिए पन्ना।
  • यंत्र स्थापना: महालक्ष्मी यंत्र, कुबेर यंत्र या श्री यंत्र की स्थापना करना।
  • मंत्र जाप: नियमित रूप से लक्ष्मी मंत्र, गणेश मंत्र, या कुबेर मंत्र का जाप करना।

कार्यालय की साफ-सफाई और व्यवस्था

साफ-सुथरा और व्यवस्थित कार्यालय हमेशा सकारात्मक ऊर्जा को आकर्षित करता है। फालतू कागज, टूटे फर्नीचर, और अनावश्यक वस्त्रों को हटा दें। साथ ही, नियमित रूप से कार्यालय की सफाई करें और हर चीज को उचित स्थान पर रखें।

समृद्धि और सौभाग्य के प्रतीक

वास्तु शास्त्र में समृद्धि और सौभाग्य के प्रतीक जैसे कि कुबेर मूर्ति, चाइनीज सिक्के, कांच के बर्तन में सिक्के, और जल स्रोत (फव्वारा) का उपयोग किया जा सकता है। इन्हें सही दिशा में रखने से आर्थिक स्थिति में सुधार होता है।

सकारात्मक ऊर्जा के स्रोत

कार्यालय में सकारात्मक ऊर्जा बनाए रखने के लिए सूर्य की रोशनी और ताजे हवा का पर्याप्त प्रबंध होना चाहिए। इसके अलावा, नियमित रूप से सुगंधित धूप या अरोमा ऑयल का उपयोग करें।

निष्कर्ष

हाल ही की गणना के अनुसार, ज्योतिष और वास्तु के उपाय अपनाने से व्यावसायिक सफलता की संभावनाएँ काफी बढ़ जाती हैं। इन वास्तु और ज्योतिषीय उपायों को अपनाकर आप अपने व्यवसाय में सकारात्मक परिवर्तन देख सकते हैं। यह ध्यान रखें कि ये उपाय केवल सहायक होते हैं, मुख्य सफलता आपके कठिन परिश्रम और सही रणनीतियों पर निर्भर करती है। भारत के प्रसिद्ध ज्योतिषी मनोज साहू जी के अनुसार वास्तु और ज्योतिष का समन्वय आपको सही दिशा में मार्गदर्शन कर सकता है और व्यावसायिक लाभ को बढ़ाने में महत्वपूर्ण भूमिका निभा सकता है।

Scroll to Top