क्यों आपके पास पैसा रुक नहीं पाता - best astrologer in indore madhya pradesh

क्यों आपके पास पैसा रुक नहीं पाता

भारतीय ज्योतिष शास्त्र के अनुसार, किसी व्यक्ति के आर्थिक जीवन में ग्रहों और नक्षत्रों का महत्वपूर्ण प्रभाव होता है। कई बार ऐसा देखा जाता है कि व्यक्ति को अच्छी आय होने के बावजूद भी धन टिक नहीं पाता और वह आर्थिक तंगी से जूझता रहता है। ज्योतिषीय दृष्टि से इसके पीछे कई कारण हो सकते हैं। इस लेख में हम इन कारणों का विश्लेषण करेंगे और उनके निवारण के उपाय भी बताएंगे।

शनि का प्रभाव

शनि ग्रह को कर्मफल का दाता माना जाता है | इंदौर के प्रसिद्ध ज्योतिषी मनोज साहू जी के अनुसार का मानना है यदि शनि की महा दशा या अंतर दशा चल रही हो और शनि की स्थिति प्रतिकूल हो, तो यह व्यक्ति के आर्थिक स्थायित्व पर नकारात्मक प्रभाव डाल सकता है। शनि की प्रतिकूल दृष्टि व्यक्ति को अनावश्यक खर्चों में उलझा सकती है जिससे धन संचय करना मुश्किल हो जाता है। शनि की शांति के लिए उपाय करने से इस समस्या को कम किया जा सकता है।

मंगल दोष

मंगल ग्रह उग्र और आक्रामक स्वभाव का होता है। यदि कुंडली में मंगल ग्रह अशुभ स्थिति में होता है या उस पर शनि, राहु या केतु की दृष्टि होती है, तो यह व्यक्ति के आर्थिक मामलों में अस्थिरता ला सकता है। इंदौर के प्रसिद्ध ज्योतिषी मनोज साहू जी के अनुसार मंगल के अशुभ प्रभाव से व्यक्ति बिना सोचे-समझे खर्च करता है और धन संचय करने में असमर्थ रहता है।

राहु और केतु का प्रभाव

राहु और केतु को छाया ग्रह माना जाता है जो भ्रम, अव्यवस्था और अनिश्चितता लाते हैं। यदि राहु या केतु की महा दशा चल रही हो और उनकी स्थिति अशुभ हो, तो यह व्यक्ति के धन संचय के प्रयासों को विफल कर सकती है। भारत के प्रसिद्ध ज्योतिषी मनोज साहू जी के अनुसार राहु व्यक्ति को गलत निवेश और धोखाधड़ी में फंसा सकता है जबकि केतु व्यक्ति को मानसिक तनाव और आर्थिक अस्थिरता दे सकता है।

कुंडली दोष

कुंडली में विभिन्न प्रकार के दोष व्यक्ति के आर्थिक जीवन को प्रभावित कर सकते हैं:

कालसर्प दोष: जब राहु और केतु के बीच सभी ग्रह स्थित होते हैं, तो इसे कालसर्प दोष कहा जाता है। यह दोष व्यक्ति के जीवन में वित्तीय समस्या और धन की अस्थिरता लाता है।

पितृदोष: पितृदोष के कारण व्यक्ति को आर्थिक अस्थिरता का सामना करना पड़ सकता है। यह दोष पूर्वजों की अपूर्ण इच्छाओं और उनके अनसुलझे कर्मों के कारण उत्पन्न होता है।

ग्रहों की युति और दृष्टि 

ग्रहों की युति और उनकी दृष्टि भी व्यक्ति के आर्थिक जीवन पर गहरा प्रभाव डालती है:

शनि-मंगल युति: शनि और मंगल की युति या दृष्टि व्यक्ति के वित्तीय मामलों में रुकावट और धन संचय में असफलता का कारण बन सकती है।

राहु-केतु की दृष्टि: राहु और केतु की दृष्टि भी वित्तीय समस्याऔर धन की अस्थिरता ला सकती है। यह दृष्टि व्यक्ति के वित्तीय निर्णयों में गलतियों और अनिश्चितता को बढ़ावा देती है।

वास्तु दोष

वास्तु दोष भी व्यक्ति के आर्थिक जीवन को प्रभावित कर सकते हैं। यदि आपके घर या कार्यालय का वास्तु दोषपूर्ण है, तो यह आपके वित्तीय स्थायित्व और आर्थिक वृद्धि में बाधा उत्पन्न कर सकता है। वास्तु दोष के कारण नकारात्मक ऊर्जा का प्रवाह होता है, जिससे व्यक्ति के वित्तीय मामलों में समस्या आती हैं और धन संचय नहीं हो पाता।

पूर्व जन्म के कर्म

ज्योतिष के अनुसार, व्यक्ति के पूर्व जन्म के कर्म भी उसके वर्तमान जीवन को प्रभावित करते हैं। यदि किसी व्यक्ति के पूर्व जन्म के कर्म अच्छे नहीं हैं, तो उसे वर्तमान जीवन में आर्थिक समस्याओं और धन की अस्थिरता का सामना करना पड़ सकता है।

वर्तमान जीवन के कर्म

वर्तमान जीवन में किए गए कर्म भी व्यक्ति के आर्थिक स्थायित्व पर प्रभाव डालते हैं। गलत वित्तीय निर्णय, अनावश्यक खर्चे और असंतुलित बजट भी धन संचय में बाधा उत्पन्न कर सकते हैं।

धन संचय के उपाय

ग्रहों की शांति

ग्रहों की शांति के लिए नियमित पूजा-पाठ, मंत्र जाप और रत्न धारण करना लाभकारी हो सकता है। इससे ग्रहों के प्रतिकूल प्रभाव को कम किया जा सकता है और आर्थिक स्थायित्व प्राप्त किया जा सकता है।

वास्तु सुधार

घर और कार्यालय के वास्तु दोष को सुधारने के लिए वास्तु शास्त्र के अनुसार परिवर्तन करें। सही दिशा में बैठना, सही रंगों का प्रयोग और वास्तु दोषों को दूर करना महत्वपूर्ण हो सकता है

सकारात्मक सोच

सकारात्मक सोच और आत्मविश्वास के साथ काम करने से जीवन में सफलता प्राप्त की जा सकती है। योग, ध्यान और प्राणायाम से मानसिक शांति और आत्मविश्वास बढ़ाया जा सकता है।

ज्योतिषीय परामर्श

 मध्यप्रदेश के प्रसिद्ध ज्योतिषी मनोज साहू जी से परामर्श लें। वे वैदिक ज्योतिष, अंक ज्योतिष और लाल किताब विशेषज्ञ हैं। वे आपकी कुंडली का विश्लेषण कर सही उपाय बता सकते हैं जिससे आपके आर्थिक समस्याओं और धन की अस्थिरता से मुक्ति मिल सकती है। इंदौर के प्रसिद्ध ज्योतिषी साहू जी का मार्गदर्शन आपके जीवन को नई दिशा दे सकता है।

निष्कर्ष

ज्योतिषीय दृष्टि से धन की अस्थिरता के कई कारण हो सकते हैं, जैसे कि ग्रहों की दशा, कुंडली दोष, वास्तु दोष, पूर्व जन्म के कर्म और वर्तमान जीवन के कर्म। इन समस्याओं का समाधान ज्योतिषीय उपायों और सकारात्मक दृष्टिकोण से किया जा सकता है। इंदौर के प्रसिद्ध ज्योतिषी साहू जी जैसे विशेषज्ञ ज्योतिषियों की सलाह लेकर आप अपने जीवन में आर्थिक स्थायित्व प्राप्त कर सकते हैं और धन की अस्थिरता से मुक्ति पा सकते हैं। वैदिक ज्योतिष के उपायों और सिद्धांतों का पालन करके आप अपने जीवन को नई दिशा और गति दे सकते हैं।

Scroll to Top